इन भावनाओं के सामने पैसा पावर कुछ भी नहीं

ये खेल से उत्पन्न वो भावनाएं जिसको न कोई खरीद सकता और न ही कोई बड़े सा बड़ा एक्टर एक्ट कर सकता
ये रियल जज्बात हैं
और यही जज्बात स्पोर्ट्स को नई ऊंचाइयां देते हैं
यह दृश्य टोक्यो ओलंपिक में पुरुषों की ऊंची कूद के फाइनल का है। फाइनल में इटली के जियानमारको ताम्बरी का सामना कतर के मुताज़ एसा बर्शिम से था दोनों ने 2.37 मीटर की छलांग लगाई और बराबरी पर रहे ! ओलंपिक अधिकारियों ने उनमें से प्रत्येक को तीन और प्रयास दिए, लेकिन वे 2.37 मीटर से अधिक तक नहीं पहुंच पाए।
उन दोनों को एक और प्रयास दिया गया, लेकिन टाम्पबेरी पैर में गंभीर चोट के कारण अंतिम प्रयास से हट गए। वह क्षण जब बरशिम के सामने कोई दूसरा विरोधी नहीं था, वह क्षण जब वह आसानी से अकेले सोने के करीब पहुंच सकता था!
लेकिन बर्शिम ने निर्णायकों से पूछा कि, “अगर मैं अंतिम प्रयास से पीछे हट जाऊं तो क्या हम दोनों के बीच गोल्ड मेडल साझा किया जा सकता है? ऑफिशियल्स का निर्णय आया “हाँ” गोल्ड मेडल आप दोनों के बीच साझा किया जाएगा। बर्शिम के पास सोचने के लिए कुछ नहीं था, उसने आखिरी प्रयास से हटने की घोषणा की।
यह देख इटली का प्रतिद्वन्दी ताम्बरी दौड़ा और बरसीम को गले लगा कर चिल्लाने लगा!
हमने जो देखा वह हमारे दिलों को छूने वाला और खेलों के प्रति हमारे मन में एक रेस्पेक्ट जगाने वाला है
*यह अवर्णनीय खेल भावना को प्रकट करता है।*
सुप्रभात
– Sunil Fageria
Tokyo 2020: Olympic gold shared by high jumpers Mutaz Essa Barshim and Gianmarco Tamberi
 

Leave a Comment

Your email address will not be published.