जाते जाते दर्द भरी ख़ुशी…?

एस एम फ़रीद भारतीय कौन कह सकता है आज सुरों के सरताज़ को हमारे बीच से गये 41 साल पूरे हो गये, ऐसा लगता है जैसे कल ही की बात है, नई पीढ़ी मैं भी रफ़ी साहब उतने ही मशहूर हैं जितने अपने ज़माने के लोगों मैं हुआ करते थे, रफ़ी साहब के जाने के …

जाते जाते दर्द भरी ख़ुशी…? Read More »