Humanity

ऐसे लोगों के साथ हीं मानवता जीवित है।

विलासपुर के कलेक्टर डॉ संजय अलंग जब केंद्रीय जेल में निरीक्षण के लिए पहुँचे तो देखा कि एक 6 साल की बच्ची अपने पिता से लिपट कर रो रही थी। पूछने पर पता चला कि एक अपराध में सजायाफता क़ैदी है, ये उसकी बेटी है। 5 साल की सजा काट ली है, 5 साल और …

ऐसे लोगों के साथ हीं मानवता जीवित है। Read More »

इन भावनाओं के सामने पैसा पावर कुछ भी नहीं

ये खेल से उत्पन्न वो भावनाएं जिसको न कोई खरीद सकता और न ही कोई बड़े सा बड़ा एक्टर एक्ट कर सकता ये रियल जज्बात हैंऔर यही जज्बात स्पोर्ट्स को नई ऊंचाइयां देते हैंयह दृश्य टोक्यो ओलंपिक में पुरुषों की ऊंची कूद के फाइनल का है। फाइनल में इटली के जियानमारको ताम्बरी का सामना कतर …

इन भावनाओं के सामने पैसा पावर कुछ भी नहीं Read More »